Your SEO optimized title

‘रोड नहीं तो वोट नहीं’ का नारा बरवाडीह प्रखंड के मोरवाई पंचायत के ग्रामीणों किया बुलंद

  • ग्रामीणों के द्वारा बैठक में आगामी 24 जनवरी से लोकतांत्रिक रूप से अनिश्चितकाल के लिए प्रखंड मुख्यालय में धरना प्रदर्शन का लिया गया निर्णय

 

बरवाडीह। सड़कों के बिना जीवन की कल्पना करके सड़को का महत्त्व अपने आप पता चल जाता है । रोटी, कपड़ा और मकान के बाद सड़क, पानी और बिजली का ही नम्बर आता है । अच्छी सड़कें विकास की निशानी होती है । सड़क न हो तो एक दिन का काम एक महीने में भी न होता है। भारत कैसे देश जहाँ आधी से ज्यादा आबादी ग्रामीण एवं सुदूरवर्ती क्षेत्रों में निवास करती है। लेकिन बरवाडीह प्रखंड का बरवाडीह-मंडल सड़क अपनी आखिरी सांसे गिन रहा हैं। वही बतातें चलें कि बरवाडीह मंडल मार्ग के निर्माण की माँग क़ो लेकर ग्रामीणों का आक्रोश लगातार बढ़ता जा रहा हैं।

 

ग्रामीणों के द्वारा सड़क निर्माण की मांग को लेकर जहां रोड नहीं तो वोट नहीं का नारा बुलंद करने के बाद रविवार क़ो मुखिया आशीष सिंह की अध्यक्षता में सड़क से जुड़े एक दर्जन से अधिक गांव में ग्रामीणों और प्रबुद्ध नागरिकों की बैठक मोरवाई बस स्टेड परिसर में आयोजित की गई। वही इस बैठक में बरवाडीह प्रखंड के पश्चिमी क्षेत्र की जिला परिषद सदस्य संतोषी शेखर के साथ पूर्वी जिला परिषद कन्हाई सिंह समेत कई ग्राम प्रधान और वार्ड सदस्य शामिल हुए। । बैठक के दौरान वार्ड सदस्य समेत सभी ग्रामीण के द्वारा अब सड़क की मांग को लेकर पत्राचार और ज्ञापन को छोड़कर लोकतांत्रिक तरीके से आंदोलन करने का निर्णय लिया गया।

 

जिसके तहत आगामी 24 जनवरी क़ो ग्रामीणों के द्वारा अनिश्चितकाल के लिए प्रखंड मुख्यालय में धरना प्रदर्शन करने के साथ-साथ सड़क जाम और नाकेबादी चरणद्ध तरीके से करने का भी सयुंक्त रूप से आह्वान किया गया। वही इस दौरान बरवाडीह पश्चिमी जिला परिषद सदस्य संतोषी शेखर ने बरवाडीह मंगल मार्ग पूरी तरह जर्जर अवस्था में है। अगर इसका जल्द निर्माण नहीं कराया गया तो लगभग 30 किलोमीटर लंबे इस मार्ग के दोनों तरफ बसे लगभग एक दर्जन गांव प्रखंड मुख्यालय से पूरी तरह कट जाएंगे, यह ना तो प्रखंड मुख्यालय और नहीं इन क्षेत्रों में बसने वाले ग्रामीणों के लिए उचित होगा।

 

वही बरवाडीह प्रखंड के पूर्वी जिला परिषद सदस्य कन्हाई सिंह ने कहा बरवाडीह-मंडल मार्ग की याद जनप्रतिनिधियों को केवल चुनाव के समय याद आता है। चुनाव के बाद सारी घोषणाएं, सारे आश्वासन समय चक्र के काल के गाल में समा जाता है। ना तो चुनाव के बाद नेताओं को मंडल बरवाडीह मार्ग के दुर्दशा याद आती है, ना ही चुनाव जीतने से पहले जनता के सामने किए गए वादे याद आते है। वही बरवाडीह प्रखंड के मोरवाई पंचायत के मुखिया आशीष सिंह ने कहा ज्ञापन एवं पत्राचार के माध्यम से सड़क निर्माण को लेकर जनप्रतिनिधियों को इस सड़क की दुर्दशा एवं इसकी उपयोगिता बताने का काम किया जा रहा था। लेकिन इस दिशा में सकारात्मक पहल न होने के कारण हम ग्रामीण लोकतांत्रिक रूप से इस मांग को सड़क पर ले जाने के लिए बाध्य हो गए हैं।

 

बैठक में वार्ड सदस्य स्लोमि कंडुलना, प्रेमा देवी, बृजनंदन सिंह, पिंकी देवी, सोनी देवी, ग्राम प्रधान राम अवतार सिंह रामदेव सिंह जोसफ सुरीन, हरिंदर उरांव , अमीन सिंह , शिवनारायण सिंह , सुघर सिंह, रवि कुमार, कृष्ण देव शर्मा भोलू शर्मा, दिलीप कुमार, बब्लू राम, रामराज सिंह, फनु सिंह, दुर्गावती देवी, इंथोनी तोपनो, कमील तोपनो अनूप सिंह, अजित कुमार, कंचन कुमारी,सुवनती तोपनो, हेरियुस चमपिया, समेत काफ़ी सख्या में लोग मौजूद थे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!