Your SEO optimized title

अवैध लॉटरी की बिक्री पुरे कोयलांचल में धड़ले से है जारी

  • vitamin एम के दम पर प्रतिबंधित अवैध लॉटरी की बिक्री पुरे कोयलांचल में धड़ले से है जारी
  • प्रतिबंधित अवैध लॉटरी कारोबारी अमीर बनने का सपना दिखाकर हो रहे मालामाल
  • इस अवैध लॉटरी में युवा व मजदूर वर्ग के लोग फंसते ही जा रहे है

 

 

Dhanbad : कोयलांचल में अवैध लॉटरी का गैर कानूनी धंधा एकबार फिर पांव पसारने लगा है. झरिया बाजार, फूसबंगला बाजार, लोदना बाजार,तीसरा क्षेत्र,बलियापुर क्षेत्र, जामाडोबा, डिगवाडीह बाजार,भौरा बाजार, नुनुडीह मोड़, पाथरडीह बाजार, सुदामडीह बाजार, रिवर साइड, चासनाला बाजार समेत अन्य स्थानों में रोज सुबह अवैध लॉटरी के एजेंटों को छिपते-छिपाते लॉटरी बेचते हुए देखा जा सकता है. इसी के खिलाफ में क्रांतिकारी एकता दल के अध्यक्ष मोहम्मद गफ्फार अंसारी ने मोर्चा खोल दिया है,मोहम्मद गफ्फार अंसारी ने बताया कि भौरा ओपी ,patherdih थाना,goushala ओपी,sindri बलियापुर थाना, सुदामडीह थाना क्षेत्र में झरिया ऊपर कुली के समीर और जामाडोबा मोहम्मद तनवीर यह गोरखधंधा जोर-शोर से चल रहा है.

 

इसमें लालच के नशे की लत से रातों-रात अमीर बनने का ख्वाब देखने वाले युवा व मजदूर वर्ग के लोग फंसते जा रहे हैं. गरीबों को लाखों-करोड़ों रुपये इनाम का लालच देकर उनकी गाढ़ी कमाई को लूटा जा रहा है. बताया जा रहा है कि अवैध लॉटरी के कारोबार के खिलाफ पुलिस भी सक्रिय है. इसके खिलाफ पुलिस कई बार छापामारी कर चुकी है, लेकिन पुलिस को अबतक कोई सफलता नहीं मिल पाई है.

 

झारखंड में लॉटरी खेल पर प्रतिबंध है, सरकार ने इस पर पाबंदी लगा रखी है. बावजूद इसके पूरे झरिया विधान सभा क्षेत्र सहित पुरे कोयलांचल में अवैध लॉटरी की बिक्री जोर-शोर से की जा रही है.शहरी व बाजार क्षेत्र के अलावा गांव व टोला में भी अवैध लॉटरी के एजेंट लॉटरी बेचते हुए देखे जा सकते हैं.

 

बताया जा रहा है कि गोरखधंधा में शामिल एजेंट गांव के मजदूर, छोटे-छोटे दुकानदार व युवाओं को लाखों-करोड़ों रुपये इनाम का लालच दिखाकर लॉटरी बेचते हैं. यहां स्थानीय स्तर के लॉटरी के अलावा पश्चिम बंगाल समेत अन्य प्रदेशों के लॉटरी की बिक्री धड़ल्ले से की जा रही है. यहां पुलिस डाल-डाल तो लॉटरी कारोबारी पात-पात हैं.

 

इस अवैध लॉटरी के कारण पारिवारिक कलह भी बढ़ता जा रहा है. लॉटरी में अपने दिनभर की कमाई को लुटाने के बाद जब लोग खाली हाथ घर पहुंचते हैं, तो स्वाभाविक रूप से गरीबों के घरों में पारिवारिक विवाद बढ़ेगा.

 

अवैध लॉटरी का नशा लोगों के नसों में ब्राउन शुगर की तरह घुल गया है, जिससे निजात पाना उनके लिए मुश्किल होता जा रहा है. दिन पर दिन क्षेत्र के लोग इस गोरखधंधे के दलदल में फंसते जा रहे हैं. पुलिस-प्रशासन को अविलंब इसपर लगाम लगाने के लिए पहल शुरू करनी चाहिए, ताकि आने वाले दिनों में लोगों की खुशहाली बनी रहे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!