Your SEO optimized title

चंद पैसे की लालच में खुद खाए धोखा

  • भागलपुर के गौतम लाल श्रीवास्तव हुए साइबर ठगी के शिकार।
  • चंद पैसे की लालच में खुद खाए धोखा, एवं अपने भरोसेमंद दोस्त आदित्य को दिया धोखा।

 

 

 

भागलपुर। भागलपुर के गौतम लाल श्रीवास्तव साइबर ठगी के शिकार हो गए। इस बात की जानकारी आज खुद गौतम लाल श्रीवास्तव ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा। और सुनाई अपनी दर्द भरी दास्तान ।गौतम ने कहा मैं चंद पैसे की लालच में खुद तो धोखा खाया हीं लेकिन अपने एक भरोसेमंद, दोस्त आदित्य कुमार को भी धोखा दिया।

 

 

गौतम ने कहा आदित्य एक रेस्टोरेंट चलाता है मैंने आदित्य से उसका करेंट खाता का किट और विवरण ये कहकर मांगा, कि हमारे पास करेंट खाता नहीं है हमें व्यक्तिगत जरुरत है कुछ पैसा मंगवाना है फिर दस पन्द्रह दिन के अन्दर तुम्हें तुम्हारा खाता वापस कर दूंगा और आदित्य चुकि हमारा मित्र था तो मुझपर विश्वास किया और मुझे खाता का किट दे दिया और मैं उस खाते को आदित्य से छुपाकर एक मोहम्मद कैश नाम के व्यक्ति को दे दिया जो प्रयागराज का रहने वाला था।

 

गौतम ने बताया मोहम्मद कैश को मैं एक साल से जानता हूं , वो भागलपुर पुलिस लाईन के पास एक अन्य मित्र के यहां आता था और धीरे धीरे पहचान बढ़ी, उसी दरम्यान मोहम्मद कैश ने मुझे गेमिंग फंड के बारे में बताया और कहा कि इसके लिए एक करेंट खाता की जरूरत है तुम हमें दो मैं दस दिन में खाता वापस कर दूंगा और तुमको भी कुछ पैसा दूंगा । मैं मोहम्मद कैश की बात को सहजता से लेते हुए अपने मित्र से खाता लाकर मोहम्मद कैश को दिया। इस बात की जानकारी हमने अपने सच्चे मित्र आदित्य से छुपाया , जिसने मुझपर विश्वास कर हमें अपने खाते का सारा डिटेल, डैविट कार्ड तक दे दिया ।

 

गौतम ने कहा जब आदित्य का खाता फ्रीज हो गया तब मुझे आदित्य ने मुझसे पूछा कि क्या कर दिए कि मेरा खाता फ्रीज हो गया , उस वक्त मैं भोपाल में था, मैं भोपाल में रहकर पढ़ाई करता था, फिर भागलपुर आया साईबर थाने गया तो वहां हमें आनलाईन एफआईआर करने की सलाह मिली और मैंने दिनांक 29/01/24 को मोहम्मद कैश के खिलाफ आनलाईन एफआईआर किया । अन्त मैं गौतम ने कहा कि आदित्य बेकसूर है कमाता खाता है मेरे कारण उसका खाता फ्रीज हो गया जिससे उसे काफी परेशानी का सामना करना पर रहा है ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!