Your SEO optimized title

गुमला

चैनपुर में अफीम की खेती करने के मामले में दो लोग गिरफ्तार

चैनपुर में अफीम की खेती करने के मामले में दो लोग गिरफ्तार

खबरों की तह तक

गुमला । चैनपुर पुलिस ने अफीम की खेती कर रहे दो लोगों को गिरफतार कर जेल भेज दिया है जिसमें चैनपुर थाना क्षेत्र के तिगावल निवासी निकोदीन टोप्पो पिता स्व कुंजल टोप्पो एवं चतरा जिला निवासी पिंकू तिर्की पिता प्रभु प्रकाश तिर्की के नाम शामिल हैं ।

 

 

पिछले सोमवार को पुलिस ने दिया दतरा एवं तिगावल गांव के बीच लगभग एक एकड़ में लगे अफीम की खेती को मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में नष्ट किया था वहीं खेती से संबंधित कुछ उपकरण भी जब्त किए थे जिसके बाद से ही अभियुक्तों की तलाश जारी थी जिसके बाद ग्रामीणों के द्वारा पता चला कि जमीन मालिक निकोदीन टोप्पो ने चतरा जिला निवासी पिंकू तिर्की एवं जुगेश्वर भुंईया को अपना खेती अफीम लगाने के लिए दिया था ।

 

इधर छापामारी दल में मुख्य रूप से पुलिस निरीक्षक बैजू उरांव,थाना प्रभारी आशुतोष कुमार सिंह,पु अनि राजेश कुमार सहित सैट 12 के रिजर्व गार्ड मौजूद

थे।

परिवार नियोजन अंतर्गत सम्मान समारोह का आयोजन

परिवार नियोजन अंतर्गत सम्मान समारोह का आयोजन

खबरों की तह तक

  गुमला। डुमरी (गुमला)। प्रखंड अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डुमरी में परिवार नियोजन कार्यक्रम अंतर्गत सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में प्रखंड प्रमुख जीवंती एक्का शामिल हुईं।

 

 

कार्यक्रम में डुमरी प्रखंड की परिचारिकाओं, सहियाओं एवं बेहतर कार्य करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशस्ति पत्र व उपहार देकर सम्मानित किया गया। उपस्थित कर्मियों को संबोधित करते हुए डॉ. रोशन खलखो ने कहा की आपके द्वारा बेहतर कार्य किया गया है जो पूरे स्वास्थ्य केंद्र हेतु सम्मान की बात है। आपसे इसी तरह बेहतर कार्य की सदैव अपेक्षा है।

 

 

अपनी जिम्मेदारी को ईमानदारी पूर्वक निभाना हम सभी स्वास्थ्य कर्मियों का दायित्व है। वहीं ये भी कहा की अभियान निदेशक झारखंड के निर्देशानुसार सभी एनएम, सहिया एवं वैसे स्वास्थ्य कर्मी जिन्होंने परिवार नियोजन से संबंधित बेहतरीन काम किया है उनको सम्मानित किया जाना था।

 

 

 

जिनके आलोक में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। मौके पर एकाउंट मैनेजर इंदु कुमारी, प्रोग्राम मैनेजर राजेश केरकेट्टा, बीटीटी मंजुला लकड़ा, शांता टोप्पो, प्रधान लिपिक पूर्ति मिंज, प्रीति कुमारी सहित अन्य उपस्थित थे।

सार्वजनिक शौचालयों एवं यूरिनल्स के संचालन को लेकर सुलभ इंटरनेशनल व नगर परिषद के बीच हुआ करार

सार्वजनिक शौचालयों एवं यूरिनल्स के संचालन को लेकर सुलभ इंटरनेशनल व नगर परिषद के बीच हुआ करार

 

खबरों की तह तक

गुमला l नगर परिषद क्षेत्र में अवस्थित नए एवं पुराने सार्वजनिक शौचालयों, सामुदायिक शौचालयों तथा सार्वजनिक मूत्रालयों के रखरखाव और संचालन को लेकर सुलभ इंटरनेशनल एवं नगर परिषद के बीच गुरुवार को नगर परिषद कार्यालय में एमओयू किया गया।

 

 

समझौता ज्ञापन के अनुसार सुलभ इंटरनेशनल को नगर परिषद क्षेत्र के 12 शौचालयों तथा 4 सार्वजनिक मूत्रालयों के रखरखाव का जिम्मा दिया गया है, जो कि 1 जनवरी 2023 से प्रभावी होगा। कार्यपालक पदाधिकारी संजय कुमार ने बताया कि 6 शौचालयों के रखरखाव का जिम्मा सुलभ द्वारा कुछ वर्ष पहले से ही लिया हुआ था इस प्रकार से अब शहर के कुल 18 सार्वजनिक शौचालयों की देखरेख हेतु संस्था से इकरारनामा हो चुका है।

 

 

 

उन्होंने बताया कि संपादित हुए समझौते के अनुसार जिन शौचालयों या यूरिनल में नागरिकों के लिए निशुल्क जन सुविधाएं उपलब्ध होंगी उनके रखरखाव पर आने वाले व्यय का भुगतान नगर परिषद की ओर से सुलभ को किया जाएगा, जबकि जिन शौचालयों में नागरिकों को सशुल्क जन सुविधाएं दी जाएंगी और शुल्क सुलभ द्वारा वसूला जाएगा उस पर नगर परिषद को कोई राशि व्यय नहीं करना होगी।

उप प्रमुख की पत्नी ने एसपी व डीजीपी को आवेदन देकर निष्पक्ष न्याय दिलाने का मांग किया

उप प्रमुख की पत्नी ने एसपी व डीजीपी को आवेदन देकर निष्पक्ष न्याय दिलाने का मांग किया

 

खबरों की तह तक

गुमला l जिले के गुमला सदर प्रखंड के उप प्रमुख मो मुस्तफा आलम उर्फ राजन की पत्नी नगमा फ़िरदौस ने पुलिस अधीक्षक व पुलिस महानिदेशक को आवेदन देकर अपने पति को एक साजिश के तहत तथा बदले की भावना से ग़लत आरोप लगाकर एसटी -एससी थाना कांड संख्या – 11/2022 में फंसाये जाने की बात कहते हुए मामले को किसी निष्पक्ष पुलिस अधिकारी से जांच कराते हुए न्याय दिलाने की आग्रह की है l

 

 

आवेदन में इन्होंने लिखी है कि जून 2022 में मेरे पति उप प्रमुख निर्वाचित हुए तथा प्राथमिकी दर्ज में 2021 में हुए नाली निर्माण में हुए गड़बड़ी के सम्बन्ध में मेरे पति के विरुद्ध आरोप मढ़ते हुए कहा गया है कि वे उप प्रमुख बनकर अपने निजी व चहेते रिस्तेदारो को फायदा पहुंचाकर आधी अधूरी योजना का निर्माण कर सरकारी राशि का दुरुपयोग किया गया जो बिल्कुल तथ्यहीन है l

 

 

 

इन्होंने अपने पति के विरुद्ध एसटी -एससी एक्ट लगाने को भी तथ्यहीन व निराधार बताई और प्राथमिकी दर्ज के पूर्व अपने पति मो मुस्तफा आलम उर्फ राजन द्वारा सीजीएम कोर्ट में पांच अधिकारियों को पार्टी बनाकर झुठा एफआईआर का अंदेशा लगाया गया था जो सही निकला l नगमा ने भेजी गई आवेदन में प्राथमिकी दर्ज के पूर्व हो रहे घर की छापेमारी व तलाशी को साजीश बताते हुए उसका विडियो होने की बात बताई है कि एक अपराधी की भांति हम परिवार वालों के साथ कुछ तथाकथित अधिकारी गण पेश आए और झुठा एफआईआर दर्ज कर दिया गया जबकि एफआईआर दर्ज करने के पूर्व जन प्रतिनिधि होने के उनसे शा-कौज होनी चाहिए था लेकिन कभी भी किसी तरह का स्पष्टीकरण या कारण पृछा नहीं मांगी गई जो नेचुरल जस्टिस के विरुद्ध है l

 

 

 

इन्होंने पुलिस अधीक्षक व पुलिस महानिदेशक ( डीजीपी ) से इस मामले को अपने स्तर से कार्यवाही करते हुए निष्पक्ष पदाधिकारी से जांच कराकर अपने पति -सह- जन   प्रतिनिधि को न्याय दिलाने का आग्रह की है l

जिला स्तरीय आपदा प्रबंधक प्राधिकार समिति की बैठक संपन्न

जिला स्तरीय आपदा प्रबंधक प्राधिकार समिति की बैठक संपन्न

खबरों की तह तक 

गुमला। लगातार चीन में कोरोना वायरस की गंभीरता को देखते हुए । गुमला जिले में भी कोरोना संक्रमण को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। जिसके आलोक में बुधवार को उपायुक्त सुशांत गौरव ने जिला स्तरीय आपदा प्रबंधन प्राधिकार समिति की बैठक की।

 

 

बैठक में जिले के अस्पतालों में कोविड बेड, आइसीयू बेड, आक्सीजन की तैयारी, जांच के लिए विभिन्न इकाइयों की तैयारी को लेकर उपायुक्त ने आवश्यक दिशा निर्देश दिया । अब तक जिले में सभी सीएचसी सेंटर में 10 बेड की उपलब्ध करवा दी गई है, इसके अलावा सुदूरवर्ती इलाके में एंबुलेंस गाड़ी की सुविधा भी उपलब्ध करवा दी गई है। इसके अलावा जिले के डॉक्टर की टीम को भी तैयार कर दिया गया है। सभी आंगनवाड़ी केंद्रों में ऑक्सीमीटर कार्यरत है ।इसके अलावा अन्य तैयारी भी अपने अंतिम चरण में है।

 

 

उपायुक्त ने सभी एएनएम एवं सभी फ्रंट लाइन वारियर को कोविड से संबंधित प्राथमिक उपचार की ट्रेनिंग दिलाने का निर्देश दिया। 30 दिसंबर को सभी आंगनवाड़ी सेविका सहायिका को प्रखंड स्तरीय प्रशिक्षण देने का निर्देश दिया गया।

प्रभावित देशों से गुमला आने वाले लोगों की निगरानी करने का निर्देश

 

 

 

उपायुक्त ने कोरोना से पीड़ित मरीजों की पहचान, दूसरे प्रभावित देशों से गुमला आने वाले लोगों की निगरानी करने, भीड़भाड़ वाले इलाके में मास्क का प्रयोग करने संबंधी अन्य निर्देश दिए। उपायुक्त ने सभी प्रखंडों के चिकित्सा पदाधिकारियों को निर्देश जारी करने की बात कही। उपायुक्त ने अधिक टीकाकरण करने का निर्देश दिया। लोगों को बूस्टर डोज देने की अपील की गई है। सरकारी अस्पतालों में आने वाले लोगों को कोरोना वायरस की जांच करने को कहा गया है।

 

 

 

उपयुक्त ने कहा कि जिले में आवश्यक दवाइयों की कमी न पड़े उसका स्टॉक अभी से रखने का निर्देश दिया। उपायुक्त ने जिला में कोविड इमरजेंसी को देखते हुए 2 फोन नंबर जारी करने का निर्देश दिया , ताकि मरीजों को त्वरित गति से उपचार मिल सके। बैठक में मुख्य रूप से अपर समाहर्ता गुमला, डीएसपी, अनुमंडल पदाधिकारी बसिया, एसीएमओ गुमला, के अलावा अन्य संबंधित पदाधिकारी एवं कर्मी उपस्थित थे।

प्रस्तावित डीपीडीपी बिल का विरोध करते हुए आरटीआई कार्यकर्ता ने भेजा पीएम को पत्र

प्रस्तावित डीपीडीपी बिल का विरोध करते हुए आरटीआई कार्यकर्ता ने भेजा पीएम को पत्र

 

 

खबरों की तह तक

गुमला l भारतीय सूचना अधिकार रक्षा मंच के सेकेट्री एवं आरटीआई कार्यकर्ता आनंद किशोर पंडा ने केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तावित डिजिटल पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल 2022 (डीपीडीपी) के माध्यम से सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून में दुष्प्रभावी संसोधन को रोकने की मांग करते हुए प्रधानमंत्री नई दिल्ली को पत्र भेजा है l

 

प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में इन्होंने कहा है कि प्रस्तावित डिजिटल पर्सनल डेटा प्रोटेक्शन बिल से सूचनाओं की पारदर्शिता समाप्त हो जाएगी , प्रस्तावित डेटा प्रोटेक्शन बिल में धारा 2, धारा 29(2) और धारा 30(2) में जो प्रावधान रखे गए हैं उससे आरटीआई कानून पर खतरा है तथा बिल की धारा 2 की उपधारा 12, 13 एवं 14 में पर्सनल डाटा की जो परिभाषा बताई गई है उसमें न केवल व्यक्ति की जानकारी बल्कि पूरे राज्य, कंपनी अथवा किसी संस्था की भी जानकारी शामिल की गई है।जबकि धारा 29(2) में डाटा प्रोटक्शन बिल को अब तक के बनाए गए समस्त कानूनों में सर्वोपरि बताया गया है , इसी प्रकार धारा 30(2) में आरटीआई कानून की धारा 8(1)(जे) पूरी तरह से हटा दिया गया है। यदि यही स्थिति रही तो आने वाले समय में आम जनमानस को निजता के नाम पर लोक हितकर और सरकारी योजनाओं में हो रहे भ्रष्टाचार से संबंधीत कोई भी जानकारी नहीं मिल पाएगी l

 

 

 

इन्होंने यह भी कहा है कि जो जानकारी संसद और राज्य विधानमंडल को प्रदान की जाती थी वह जानकारी आम नागरिक को भी प्राप्त करने का हक आरटीआई के तहत है लेकिन प्रस्तावित डेटा प्रोटेक्शन बिल 2022 यदि अपने वर्तमान स्वरूप में पारित हो जाता है तो फिर महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए आम नागरिकों को भारी मुश्किलें हो जाएगी और हालात यह होगा कि सरकारी तंत्र में भ्रष्टाचार बढ़ेगा और भ्रष्टाचारियों को संरक्षण मिलेगी जो लोकतंत्र में जनता के हित के लिए कतई उचित नहीं है l

मुख्यमंत्री खतियानी जोहार यात्रा में राजद जिलाध्यक्ष रविन्द्र बडाईक को जगह नहीं मिलने पर कड़ी आपत्ति जताया

मुख्यमंत्री खतियानी जोहार यात्रा में राजद जिलाध्यक्ष रविन्द्र बडाईक को जगह नहीं मिलने पर कड़ी आपत्ति जताया

  • मुख्यमंत्री खतियानी जोहार यात्रा में राजद जिलाध्यक्ष रविन्द्र बडाईक को जगह नहीं मिलने पर कड़ी आपत्ति जताया
  • कार्यक्रम पर सीएम को गुलदस्ता देकर अभिवादन किया, लेकिन प्रोटोकॉल का उलंघन कर कार्यक्रम स्थल के अंदर जाने से इन्हें रोक दिया गया
  •  करेंगे पार्टी सुप्रीमो को शिकायत

 

गुमला l राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के गुमला जिलाध्यक्ष रविन्द्र बडाईक ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि 12 दिसंबर को मुख्यमंत्री खतियानी जोहार यात्रा में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का पुगु एरोड्राम में हुए कार्यक्रम पर राजद जिलाध्यक्ष रविन्द्र बडाईक को जगह नहीं मिलने पर इन्होंने कड़ी आपत्ति जाहिर करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय जनता दल को तरजीह नहीं दिया गया, राजद का गुमला जिलाध्यक्ष मैं हूं और कार्यक्रम में राजद का एक पूर्व जिलाध्यक्ष योगेन्द्र साहू को बुला लिया गया , इन्होंने कहा है कि आखिर प्रोटोकॉल का उलंघन करते हुए किस परिस्थिति में योगेन्द्र साहू राजद का प्रतिनिधित्व किये , इसकी मैं शिकायत राजद के सुप्रिमो के पास करूंगा l

 

इन्होंने गुमला जिले के युपीए घटक दल के क्रियाकलापों पर भी चिंता जाहिर करते हुए इसकी घोर निन्दा किया है और कहा है कि ऐसा परिस्थिति लाने पर उनकी भी युपीए घटक दल के जिलाध्यक्षो की घोर लापरवाही है l रविन्द्र ने कहा कि ” योगेन्द्र साहू बीजेपी का दामन थाम चुके हैं और इन्हें शर्म आनी चाहिए कि वे राजद का प्रतिनिधित्व करने के लिए कार्यक्रम में शरिक हों l हालांकि रविन्द्र ने सीएम हेमंत सोरेन के कार्यक्रम पर इन्हें गुलदस्ता देकर उन्हें अभिवादन किया लेकिन कार्यक्रम स्थल में प्रोटोकॉल का उलंघन कर उन्हें भाग लेने का मौका नहीं मिलने पर ये काफी व्यथित और नाराज भी हैं l

error: Content is protected !!