Your SEO optimized title

चुनाव

पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में इस बार अररिया में 230154 अधिक मतदाता करेंगे वोट

पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में इस बार अररिया में 230154 अधिक मतदाता करेंगे वोट

 

 

2018474 पहुंची मतदाताओं की संख्या, सर्विस वोटरों की संख्या है 990 तो थर्ड जेंडर मतदाता हैं 94

 

अररिया/डा. रूद्र किंकर वर्मा। पिछले लोकसभा चुनाव से इस बार के लोकसभा 2024 के चुनाव में दो लाख तीस हजार एक सौ चौवन मतदाताओं की वृद्धि हुई हैं। निर्वाचन विभाग के आंकड़ों के अनुसार 09अररिया संसदीय सीट पर इस बार पुरुष मतदाताओं की संख्या 104981 तथा महिला मतदाताओं की संख्या 968564 है।

 

आंकड़ों के अनुसार, वर्तमान समय में जिले में कुल मतदाताओं की संख्या 20,18,474 तक पहुंच गई है। इस बार मतदान केंद्रों की संख्या 2004 हो गई है जो 1002 भवनों में है।वरीय पदाधिकारी अजय ठाकुर ने बताया कि कुल संख्या 94 थर्ड जेंडर के मतदाताओं की कुल संख्या है। एवम सेवा मतदाता 990 है।

राजद भाजपा की बी टीम की तरह लोकसभा चुनाव मेँ नज़र आ रही : शाहजहाँ शाद 

राजद भाजपा की बी टीम की तरह लोकसभा चुनाव मेँ नज़र आ रही : शाहजहाँ शाद 

राजद भाजपा की बी टीम की तरह लोकसभा चुनाव मेँ नज़र आ रही : शाहजहाँ शाद

 

बिहार में अब मुस्लिम वोट राजद के हाथ से दिख रही है फिसलती हुई 

 

तेजस्वी जी,18 परसेंट मुसलमान की संख्या में महज़ दो सीटें मुसलमानो के खाते में देते हैं,14 परसेंट वाले यादव जाति के 8 उम्मीदवार खड़े किये है वही 2.5 फीसदी वाले मल्लाह की आबादी वाले मुकेश सहनी को 3 सीट।आडवाणी का रथ रोकने पर 35 साल से अपना मसीहा मानकर वोट देते आयें है,और अब कब तक रथ दिखा कर मुसलमानो को राजद की सवारी करवाओगे!

 

फारबिसगंज। सीमांचल डेवलपमेंट फ्रंट के महासचिव शाहजहां शाद ने तेजस्वी यादव को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि राजद के युवराज़ तेजस्वी यादव जी पूर्णिया के मंच से खुलेआम कहते है की “या तो आप इंडिया को वोट कीजिये या एनडीए को” ऐसे वक़्तव्य से यह साफ़ समझा जाए की राजद भाजपा गठबंधन से समझौता कर चुकी है,अंदर खाने की सच्चाई अब मंच पर भी आने लगी है,आरजेड़ी बिहार में भाजपा के लिए इम्पक्ट प्लेयर की भूमिका मेँ है पूर्णिया और बिहार की जनता इस बात को समझ चुकी है,

लालू यादव को मुसलमान आडवाणी का रथ रोकने पर 35 साल से अपना मसीहा मानकर वोट देते आयें है,और अब कब तक रथ दिखा कर मुसलमानो को राजद की सवारी करवाओगे?

सामाजिक न्याय का नारा देने वाले तेजस्वी, हिस्सेदारी और बराबरी की बात करने वाले तेजस्वी यादव जी,18% मुसलमान की संख्या में महज़ दो सीटें मुसलमानो के खाते में देते हैं,14 परसेंट वाले यादव जाति के 8 उम्मीदवार खड़े किये है वही 2.5% वाले मल्लाह की आबादी वाले मुकेश सहनी को 3 सीट,सामाजिक न्याय का नारा देने वाले आरजेड़ी के पैरोकार मुकेश सहनी मल्लाह के नाम पर 3 सीट तो ले लिए लेकिन तीन सीट पर अन्य जातियों के कैंडिडेट को उतार दिया,बिहार मेँ अब मुस्लिम वोट राजद के हाथ से फिसलती हुई दिख रही है।

रोड नहीं तो वोट नहीं

रोड नहीं तो वोट नहीं

ग्रामीणों ने वोट बहिष्कार करने का निर्णय किया, मेरे गावों में सड़क नहीं बना फिर अपने मताधिकार का उपयोग क्यों करें

 

 

 

मोहनपुर : प्रखंड क्षेत्र के पोस्तवारी पंचायत के हाथवारी गांव में ग्रामीणों ने लोकसभा चुनाव में वोट बहिष्कार करने का फैसला किया ग्रामीण एकजुट होकर नारे लगाकर कहा रोड नहीं तो वोट नहीं चुनाव के समय जनप्रतिनिधि आते हैं एवं लंबे-लंबे जहां से देकर चले जाते हैं पूर्व में भी लोकसभा चुनाव में कहा गया था कि इस गांव को मुख सड़क से जोड़ा जाएगा लेकिन अब तक सड़क का नसीब नहीं हुआ इस गांव में बीमारी एवं प्रसव होने पर एंबुलेंस तक नहीं पहुंचते हैं प्रसव को खाट पर लेकर मुख्य सड़क तक जाते हैं। इस गांव में लगभग 500 मतदाता है एवं गांव की जनसंख्या हजारों की है लेकिन इस गांव में अब तक सड़क नहीं बन पाई है इस गांव में एक प्राथमिक विद्यालय हैं जिसमें सड़क न होने के कारण शिक्षक समय पर नहीं पहुंच पाते हैं बरसात होते ही ग्रामीणों की दुर्दशा हो जाती है।

 

क्या है सड़क का मामला

जयपुर मुख्य सड़क से गांव की दूरी 3 किलोमीटर है गांव की आने की समस्या सड़क नहीं है जिसे ग्रामीणों ने अपनी जमाबंदी जमीन देकर कोई दूरी तक सड़क बनाई है लेकिन 500 मी आदिवासी की जमीन जमाबंदी है जो देने के लिए नदारत है इसी 500 मीटर से गांव में आवागमन बाधित हो गए हैं आजादी के अब तक इस गांव में सड़क नहीं बन पाई है किसी तरह से ग्रामीण मेड़ के सहारे आवागमन करते हैं जिसको लेकर ग्रामीणों ने अंचलाधिकारी को लिखित आवेदन देकर सड़क की मांग की गई थी वहीं देवघर विधायक नारायण दास को लिखित आवेदन देकर सड़कों की मांग किया गया था लेकिन आश्वासन के सिवा कुछ नहीं मिला। इस दौरान उपस्थित मनोज यादव , भोला यादव, बासुदेव, यादव, सुनीता देवी, सुशीला देवी, सहेली देवी, कौशल्या देवी, भूदेव, यादव, जामुन, संतोष, विष्णु , हरिमोहन, चिंतामणि, हेमा देवी, प्रदीप यादव, पोखन, कामदेव, लीलाधर, पर्वतीय देवी , भगवतिया देवी, लालमणि देवी, अझोला देवी, भीमसेन, दिनेश,बालकिशोर, बीनो एवं सैंकड़ों लोग थे।

9 मई को गोड्डा लोकसभा चुनाव केलिए नामांकन करेंगे राजेश झा

9 मई को गोड्डा लोकसभा चुनाव केलिए नामांकन करेंगे राजेश झा

 

देवघर । पत्रकार एवम लेखक राजेश झा आगामी 9मई को गोड्डा लोकसभा सीट से निर्वाचन के लिए निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अपना नामांकन दाखिल करेंगे।

 

यह जानकारी देते हुए राजेश झा ने बताया कि गोड्डा लोकसभा क्षेत्र का विकास डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी , पंडित दीनदयाल उपाध्याय और दत्तोपंत ठेंगड़ी द्वारा बताए अंत्योदय की नीतियों के अनुसार कराने के लिए वे अपनी दावेदारी प्रस्तुत कर रहे हैं।

 

उन्होंने कहा कि गांवों के संसाधनों का सदुपयोग करके सभी पंचायतों को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाया जा सकता है। बतौर सांसद वे यह काम करके दिखाएंगे।

नवादा लोकसभा : 1971 में कांग्रेस के सुखदेव प्रसाद कुशवाहा ने विजय पताका लहराया

नवादा लोकसभा : 1971 में कांग्रेस के सुखदेव प्रसाद कुशवाहा ने विजय पताका लहराया

नवादा/आलोक सिन्हा: नवादा ऐतिहासिक जिला है। शहर खुरी नदी के उत्तर में बसा है । गया जिला से 26 जनवरी 1973 को अलग होकर एक नया जिला बना। रामायण और महाभारत काल के कई प्रसंग यहां जनश्रुतियों में आज कहीं और सुनी जाती है। यह महावीर व बुद्ध की धरती है। मगध साम्राज्य का महत्वपूर्ण स्थान रहा है ।अखंड भारत की परिकल्पना और सम्राट अशोक ने सत्ता का संपूर्ण संचालन का केंद्र स्थल मगध को रखा। स्वामी सहजानंद सरस्वती और जयप्रकाश नारायण के कर्मभूमि रही है। नवादा संसदीय ऐतिहासिक के साथ-साथ राजनीति की प्रयोगशाला रही है।यह सीट पर कांग्रेस, बीजेपी और वामपंथी दलों ने अपने-अपने स्तर से प्रयोग किया है।

 

जातिगत समीकरण
नवादा मतदाताओं की कुल संख्या 17लाख 57 हजार 523 है जिनमें लगभग आधे से थोड़ा कम मतदाता युवा है।वही9लाख 16हजार 342 पुरुष और 8लाख 41 हजार 30 महिला तथा थर्ड जेंडर 151 मतदाता है। कुल 1795 मतदान केंद्रो पर मतदान होना है।भूमिहार और यादव बहुत माने जाते हैं।कुशवाहा वोटर निर्णायक होगे।

सुखदेव प्रसाद कुशवाहा का परिचय
सुखदेव प्रसाद वर्मा को सुखदेव प्रसाद कुशवाहा के नाम से जाने जाते हैं ।वे स्वतंत्रता सेनानी और कांग्रेस के नेता थे ।जहानाबाद जिला के रहने वाले थे। वर्तमान समय में उनके पुत्र कृष्ण नंदन वर्मा जद (यू) के नेता है। वे नीतीश सरकार में शिक्षा मंत्री रह चुके हैं ।सुखदेव प्रसाद वर्मा को 1971 में कांग्रेस पार्टी ने जहानाबाद से लाकर नवादा संसदीय क्षेत्र में चुनाव लड़वाया ।चुंकी यहां से निर्दलीय प्रत्याशी महंत सूर्य प्रकाश नारायण पुरी जीते आ रहे थे ।जिन्हे कुशवाहा ने 1971 मे भारी मतों से पराजित किया। उसके बाद 1977 से 2004 तक नवादा संसदीय सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हो गया।

2009 में अनारक्षित होने पर सभी जाति के प्रत्याशी चुनाव लड़े
2008 में हुए परिसीमन से पहले नवादा अनुसूचित जाति के लिए आरक्षण सीट थी ।2009 मे अनारक्षित होने पर सभी जाति के लोग प्रत्याशी बने। जिसमें भोला प्रसाद सिंह भाजपा से जीत दर्ज की। भोला प्रसाद सिंह (बीजेपी ) को130605, बीना सिंह (लोजपा) 95,689 ,राजबल्लभ यादव (निर्दलीय) 78 ,543,कौशल यादव (निर्दलीय) 59382, मसीउहदीन (बसपा )46,528, अनिल मेहता (निर्दलीय) 45000। यहां देखा जाए तो सभी मुख्य जाति के लोग प्रत्याशी बने।
सबसे की बङी बात यह है की जेल में रहते हुए कुशवाहा जाति से आने वाला युवा नेता अनिल मेहता को 45000 वोट मिला। जो वर्तमान समय मे नवादा जिलाध्यक्ष है।ऐसी संभावना थी अगर वह जेल से बाहर होते तो चुनाव परिणाम और बेहतर होता।

 

नवादा संसदीय क्षेत्र से मुख्य मुकाबला भाजपा और राजद मे

नवादा संसदीय क्षेत्र में कुल आठ प्रत्याशी है।जिसमें भारतीय जनता पार्टी से विवेक ठाकुर वही राजद से श्रवण कुशवाहा के बीच है।यहां बताना चाहते हैं कि 1971 के बाद पहली बार किसी राजनीतिक दल ने कुशवाहा समाज को संसदीय सीट से लड़ा रहा है ।यहां की सोशल इंजीनियरिंग मे यादव ,कुर्मी कुशवाहा, मुस्लिम और महादलित का रुख राजद की ओर है।यह मुकाबला चुनाव परिणाम के में देखने को मिलेगा।

क्या ढुल्लू अपनी नैया मोदी लहर में कर पायेंगे पार या क्रिमिनल केस कराएगी उनकी फजीहत

क्या ढुल्लू अपनी नैया मोदी लहर में कर पायेंगे पार या क्रिमिनल केस कराएगी उनकी फजीहत

 

 

धनबाद : लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने विधायक ढुल्लू महतो को अपना पसंदीदा उम्मीदवार बनाया है। ढुल्लू महतो के समर्थक इसे लेकर खुशियां मना रहे हैं। उनके समर्थकों ने टिकट मिलने पर होली में जमकर रंग-अबीर के साथ पटाखा फोड़ एक साथ होली – दीवाली मनाकर खुशियां मनाई। दूसरी तरफ सांसद पीएन सिंह के समर्थकों में टिकट कटने से काफी मायूसी दिखी। ऐसे में ढुल्लू महतो को बीजेपी के अंदर भी एक गुट के विरोध का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि टिकट मिलने के साथ ही वो सभी को मनाने की कोशिश में जुट गए हैं।

 

माना जा रहा है कि मोदी लहर में लोकसभा चुनाव में इस बार भी बीजेपी प्रत्याशियों की नैया पार लग जाएगी, तो क्या धनबाद सीट पर भी ऐसा ही होगा, क्योंकि भारतीय जनता पार्टी ने धनबाद लोक सभा सीट से बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो को प्रत्याशी बनाया है। ढुल्लू महतो को प्रत्याशी बनाए जाने के साथ ही उनके समर्थकों में खुशी का माहौल है, जबकि उनके राजनीतिक विरोधी ढुल्लू महतो पर दर्ज विभिन्न मुकदमों को चुनाव में मुद्दा बनाने की कोशिश में लगे हैं।

 

 

क्या ढुल्लू तोड़ पाएंगे पीएन सिंह के जीत के अंतर का रिकॉर्ड

धनबाद लोकसभा सीट से पिछले तीन बार से बीजेपी सांसद पशुपतिनाथ सिंह लगातार जीत हासिल कर रहे हैं। 2014 में 2 लाख 93 हजार और 2019 के चुनाव में 4 लाख 86 हजार के वोटों के अंतर से जीतने वाले पीएन सिंह के इस रिकॉर्ड को ढुल्लू महतो क्या तोड़ पाएंगे? यह सवाल सभी के मन में है। ढुल्लू महतो का जीवन काफी संघर्षमय रह। इस दौरान उनके ऊपर कई आरोप भी लगे। जिसके लिए उन्हें जेल भी जाना पड़ा। लेकिन वो बेहद दृढ़ और निष्ठा के साथ खड़े रहे। जनता के साथ साथ मजदूर वर्ग उन्हें मसीहा के रूप में जानता है।

 

 

ढुल्लू महतो की पहचान कोयलांचल में जमीनी नेता के तौर पर है

ढुल्लू महतो के राजनीति में कदम रखने का विषय काफी दिलचस्प है, क्योंकि उन्हें राजनीति विरासत में नहीं मिली है, बल्कि मजदूरों के अधिकार की लड़ाई की बदौलत आज वो इस मुकाम पर खड़े हैं। ढुल्लू महतो का जन्म 12 मई 1975 में हुआ. बाघमारा का चिटाही उनका पैतृक गांव है। उनके पिता का नाम पूना महतो, जबकि माता का नाम रुकवा महताइन है। ढुल्लू महतो 12 वीं पास हैं। उनके पिता महेशपुर कोलियरी में मजदूर के रूप में कार्यरत थे। उनकी शादी बोकारो जिले की रहने वाली सावित्री देवी से हुई। भाइयों में ढुल्लू महतो सबसे छोटे हैं।

 

 

 

2019 के एमएलए चुनाव में 824 मतों से विजयी हुए थे ढुल्लू

जिस ढुल्लू महतो को भाजपा ने अपना प्रत्याशी बनाया है वो वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव में महज 824 मत के अंतर से विजयी हुए थे। ढुल्लू महतो के प्रतिद्वंदी कांग्रेस उम्मीदवार जलेश्वर महतो ने कड़ी टक्कर दी थी। जलेश्वर महतो ने ढुल्लू महतो की जीत को न्यायालय में चुनौती देते हुए पुनर्मतगणना कराने की भी मांग की है।

 

 

ढुल्लू महतो के लिए लोकसभा चुनाव चुनौती पूर्ण

धनबाद की जनता अपना निर्णय देगी, यह 25 मई की तारीख तय करेगी जिस दिन धनबाद में लोक सभा चुनाव की वोटिंग होगी। ढुल्लू महतो के लिए लोक सभा चुनाव 2024 चुनौती भरा हो सकता है। उन्हें प्रत्याशी बनाए जाने का पार्टी के अंदर भी एक गुट की ओर से विरोध किया जा रहा है। ऐसे में कांग्रेस प्रत्याशी को चुनाव में पटकनी देकर धनबाद सीट पर जीत हासिल करना चुनौतीपूर्ण होगा।

 

दर्ज आपराधिक मामलों से खड़ी हो सकती है मुश्किलें

ढुल्लू महतो पर कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। कई मामलों में वो जेल भी जा चुके हैं। साल 2013 में बरोरा थाने से वारंटी को जबरदस्ती छुड़ाने और पुलिस से मारपीट का आरोप भी उनपर लगा था। इसके अलावा अभी हाल ही में आधा दर्जन रैयत विधायक ढुल्लू के खिलाफ धरना पर बैठे थे। 17 दिनों बाद कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष जलेश्वर महतो की पहल पर धरना समाप्त करवाया गया। इसलिए इस बार भाजपा के लिए धनबाद लोकसभा का सीट कांटों भरा रहेगा।

 

 

ढुल्लू महतो का गढ़ बाघमारा, धनबाद संसदीय क्षेत्र से है बाहर

ढुल्लू महतो के लिए सबसे संकट की बात यह है कि जिस बाघमारा विधानसभा क्षेत्र से वो विधायक है, दरअसल यह विधानसभा क्षेत्र गिरिडीह संसदीय क्षेत्र अंतर्गत आता है। धनबाद लोकसभा क्षेत्र में छह विधानसभा क्षेत्र हैं, जिसमे बोकारो, चन्दनकियारी, धनबाद, सिंदरी, झरिया और निरसा शामिल है। उनके विधानसभा क्षेत्र की जनता उन्हें वोट नहीं कर पायेगी। ऐसे में उनकी जीत केवल और केवल पार्टी की छवि और मोदी फैक्टर ही तय हो सकेगी।

पीठासीन पदाधिकारियों के चल रहे प्रशिक्षण का जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी ने किया निरीक्षण

पीठासीन पदाधिकारियों के चल रहे प्रशिक्षण का जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी ने किया निरीक्षण

 

 

कटोरिया/बांका : गुरुवार को जिला निर्वाचन पदाधिकारी -सह-जिला पदाधिकारी, बांका अंशुल कुमार द्वारा प्रथम चरण का प्रशिक्षण के क्रम में प्रथम पाली में पीठासीन पदाधिकारियों के प्रशिक्षण सत्र का निरीक्षण किया गया।

 

प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे पीठासीन पदाधिकारियों को जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी द्वारा डिस्पैच सेंटर एवं रिसीविंग सेंटर की जानकारी दी गई। उनके द्वारा सभी पीठासीन पदाधिकारियों को बेहतर प्रशिक्षण प्राप्त कर चुनाव कार्य सफलतापूर्वक संपन्न करने का निर्देश दिया गया।इस दौरान प्रशिक्षण कोषांग के नोडल एवं अन्य पदाधिकारी साथ में उपस्थित थे।

 

प्रशिक्षण के दौरान अनुपस्थित पाए गए 90 कर्मियों पर स्पष्टीकरण करने एवं दोषी पाए जाने पर विधि सम्मत कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया।

पार्टी के कार्यकर्त्ता अभी से लोक सभा चुनाव की तैयारियों में लग जाएं : निरोज कुमार सिंह 

पार्टी के कार्यकर्त्ता अभी से लोक सभा चुनाव की तैयारियों में लग जाएं : निरोज कुमार सिंह 

बाराहाट में लोक सभा चुनाव की तैयारियों को लेकर राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा आवश्यक बैठक आयोजित

 

ख़बरों की तह तक

 

बाराहाट/बांका : रविवार को बाराहाट प्रखंड स्थित घोषपुर ग्राम में पत्रकार सह राष्ट्रिय लोक जनशक्ति पार्टी के जिला मीडिया प्रभारी मोनू कुमार के आवास पर सामाजिक कार्यकर्ता सह पार्टी के जिला अध्यक्ष निरोज़ कुमार सिंह के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओ की आवाशयक बैठक आयोजित हुई।

 

जिसमे की मुख्य रूप से संगठन को मजबूती के साथ आगे बढ़ाने पर पार्टी के कार्यकर्ताओ के साथ विचार- विमर्श किया गया । इस मौके पर जिला अध्यक्ष निरोज़ कुमार सिंह ने कहा – संगठन से ही पार्टी का नव निर्माण होता हैं। इसके साथ साथ उन्होंने पार्टी के तरफ से कहा कि बिहार में एक बार फिर से एनडीए महा गठबंधन की सरकार बनाने पर बधाई दी।

 

इसके अलावे जिला अध्यक्ष निरोज कुमार सिंह ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा- रालोजपा पार्टी के राष्ट्रिय अध्यक्ष सह भारत सरकार के केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस व पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष सह सांसद प्रिंस राज के दिशा- निर्देश पर रालोजपा पार्टी के संगठन को मजबूती के साथ आगे बढ़ाने और इसी वर्ष 2024 में होने वाले लोक सभा चुनाव की तैयारियों में लग जाने की बाते कही।

 

बैठक में मुख्य रूप से सामाजिक कार्यकर्ता सह रालोजपा के जिला अध्यक्ष निरोज कुमार सिंह के आलावे रालोजपा जिला मीडिया प्रभारी मोनू कुमार,जिला कोष अध्यक्ष दीप नारायण राय,जिला प्रधान महासचिव संजय सिंह,जिला सचिव कमलाकांत सिंह,जिला संगठन महामंत्री मंटू राय,राहुल कुमार सहित दर्जनों रालोजपा कार्यकर्त्ता उपस्थित थे।

उज्ज्वला दीदी संघ के चुनाव को लेकर किया बैठक बनाई रणनीति

उज्ज्वला दीदी संघ के चुनाव को लेकर किया बैठक बनाई रणनीति

शिकारीपाड़ा:- आज उज्ज्वला दीदी संघ की बैठक झारखंड के प्रदेश अध्यक्ष पिंकी घोष की अध्यक्षता मे भारतीय जनता पार्टी कार्यालय गणेशपुर शिकारीपड़ा मे हुई इस बैठक में यह निर्णय लिया गया की उज्ज्वला दीदी संघ का चुनाव प्रत्येक गांव एवं पंचायत मे होगा। यह चुनाव प्रत्येक महिना के पहले सोमवार को प्रखंड स्तरीय संघ का बैठक आयोजन किया जायेगा। जिसमे सभी उज्ज्वला दीदी को शामिल होना होगा। बैठक के दोरान यह भी निर्णय लिया गया की जो निर्णय संघ की ओर से लिया जायेगा उसी के अनुसार काम किया जायेगा। इस मौके पर संघ के सभी दीदी मौजूद थे।

प्रखंड सभागार में बीडीओ ने  बीएलओ  को लगाया फटकार

प्रखंड सभागार में बीडीओ ने बीएलओ को लगाया फटकार

 

खबरों की तह तक

देवघर। प्रखंड विकास पदाधिकारी देवघर जितेंद्र कुमार यादव ने देवघर प्रखंड अंतर्गत देवघर विधानसभा एवं मधुपुर विधानसभा के सभी बीएलओ के साथ बैठक कर मतदाता पुनरीक्षण कार्यक्रम 2023 के अंतर्गत सभी बीएलओ को अपने बूथ पर जनसंख्या के अनुसार फॉर्म 6 कम से कम 50 की संख्या में भरने का दिया आदेश। उन्होंने बताया कि जिनका जन्म 1 अक्टूबर 2005 से पहले एवं 1 अक्टूबर 2023 तक जिनका उम्र 18 वर्ष हो रहा है ,वैसे छूटे हुए लोगों का नाम मतदाता सूची में हर हाल में जुड़ना चाहिए ।

 

 

 

 

अगर किसी बूथ पर एक भी मतदाता बिना नाम चढ़ाए हुए मिल जाता है ,चेकिंग एवं सुपर चेकिंग के दरमियान तो सभी बीएलओ के ऊपर एवं संबंधित बीएलओ सुपरवाइजर के ऊपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सभी बीएलओ से चुनाव आयोग द्वारा निर्गत शपथ पत्र भरवा कर लिया जाएगा ।जिसमें उन्हें बताना होगा कि उनके बूथ पर अब कोई भी मतदाता नहीं छूटा है ।जिनका उम्र 18 वर्ष से अधिक है ।

 

 

 

साथ ही बीएलओ सुपरवाइजर को भी लिखित देना होगा कि उनके अंतर्गत पड़ने वाले सभी बूथों पर अब कोई भी मतदाता नहीं छूटा है, जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है ।बीडीओ श्री यादव ने बताया कि सभी बीएलओ यह सुनिश्चित कर लें ,कि उन्हें बीएलओ रजिस्टर में सभी नाम को चढ़ाना है और उसे सुरक्षित रखना है। उसमें यह दिखाना है की मतदाता का क्या नाम है? किस गांव का है? और उनकी उम्र क्या है ?साथही form-7 भरने के लिए चेक सिलिप भी भरना सुनिश्चित करेंगे ।1 अक्टूबर 2023 तक जिनका भी 18 वर्ष पूरा हो जा रहा है, हर हाल में उनका नाम जोङना सुनिश्चित करें ।बैठक में मुख्य रूप से सभी बीएलओ सुपरवाइजर उपस्थित थे। जिसमें सुनील कुमार, गणेश लाल वर्णवाल ,शशांक शेखर ,सोनल, संगीता मिश्रा ,राजहंस पांडे, आशीष रंजन, लक्ष्मी नारायण रावत ,शशिकांत पाठक, विश्वजीत ,आलमगीर अंसारी के साथ-साथ सभी बीएलओ उपस्थित थे।

error: Content is protected !!