Your SEO optimized title

अजब-गज़ब

नेपाल से आई महिला मंडली के नृत्य व गायन से लोग हो रहें मंत्रमुग्ध

नेपाल से आई महिला मंडली के नृत्य व गायन से लोग हो रहें मंत्रमुग्ध

चारों तरफ भक्तिमय बना वातावरण

खबरों की तह तक

मधेपुरा। जिला के उदाकिशुनगंज नगर परिषद मुख्यालय के वार्ड संख्या चार पश्चिम ब्राह्मण टोला में महाशिवरात्रि पर्व को लेकर लगातार भक्तिमय कार्यक्रम की प्रस्तुति जारी है। चार दिवसीय भक्ति कार्यक्रम के तीसरे दिन नेपाल की महिला कलाकारों के नृत्य और गायन से लोग मंत्रमुग्ध हो गए।

 

 

मेला कमेटी के सदस्य ने बताया कि जागरण के साथ शुक्रवार को कार्यक्रम की समाप्ति होगी। मंदिर परिसर में आयोजित कार्यक्रम में श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। मेला में तरह तरह की दुकानें व झूला आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इस कार्यक्रम में अध्यक्ष प्रीतम मिश्रा, मुख्य पार्षद प्रतिनिधि टीपू मिश्रा, अधिवक्ता शत्रुघ्न मिश्रा, राजेश कुमार उर्फ गुड्डू मिश्रा, सुबोध मिश्रा, विनय कुमार मिश्र उर्फ मुन्ना मिश्रा, सोनू कुमार मिश्र, पप्पू यादव, फकीर यादव, रवि रंजन मिश्र, शिवा मिश्रा, संतोष मिश्रा, सुरजीत मिश्रा, विक्रम कुमार मिश्रा, धर्मेंद्र कुमार मिश्र, पिंटू मिश्रा आदि का सराहनीय भूमिका रहा है।

 

 

 

 

 

जहां आने वाले श्रद्धालुओं का पुरा ख्याल रखा जा रहा है। चार दिवसीय महाष्टयाम कार्यक्रम में नेपाल से आए पुरुष एवं महिला कलाकार के द्वारा कार्यक्रम प्रस्तुत किया जा रहा है। जहां गाने का बोल हरे कृष्णा हरे रामा के भजन पर श्रद्धालु सुबह से शाम तक झूमते रहे। नेपाल से आए गायकी चौधरी श्याम कुमारी ,राधा देवी सरदार, आशा देवी शादा नित्य, शबना सरदार, अनु सरदार, निकिता सरदार, अलीशा कुमारी चौधरी, पुजा कुमारी सरदार, ढोलक पर राम प्रसाद चौधरी, केस्यो पर ‌राजकुमार सिंह आदि कलाकारों के द्वारा कार्यक्रम की प्रस्तुति की जा रही है।

मधुबन में पंचायत सरकार भवन के लिए चिन्हित जमीन का एसडीएम ने किया निरीक्षण

मधुबन में पंचायत सरकार भवन के लिए चिन्हित जमीन का एसडीएम ने किया निरीक्षण

 

 

खबरों की तह तक

मधेपुरा। जिला के उदाकिशुनगंज प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत मधुबन पंचायत में पंचायत सरकार भवन निर्माण कार्य के लिए प्रस्तावित जमीन का उदाकिशुनगंज के एसडीएम राजीव रंजन कुमार सिन्हा, बीडीओ प्रभात केसरी सीओ हरीनाथ राम ने सोमवार को जायजा लिया। निरीक्षण उपरांत एसडीएम राजीव रंजन सिन्हा ने कहा कि मधुबन पंचायत में जो पंचायत सरकार भवन निर्माण कार्य के लिए स्थल चिन्हित कर प्रस्ताव भेजा है वह अस्वीकृत कर दिया गया है।

 

 

 

बजह ये है कि पोखर के जमीन को चिन्हित करके दे दिया गया है, जहां पोखर है, भले ही उसके केस में भीठ हो लेकिन वर्तमान स्वरूप उसका पोखर है। गहरा गड्ढा है, जिसकी गहराई काफी ज्यादा है। उसमें पंचायत सरकार भवन निर्माण के लिए मिट्टी भरना पड़ेगा। जो कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय का आदेश है कि जो भी वाटर स्ट्रक्चर है, जल स्रोत है उस स्थल पर किसी भी प्रकार का निर्माण कार्य नहीं करना है। वहीं निरीक्षण के क्रम में लोग बता रहे थे प्रस्तावित भूमि का खाता खेसरा काफी लंबा चौड़ा है अगर उस खेसरा में सटा हुआ और भी जमीन मौजूद है तो हम सीओ को बोले हैं कि आप ठीक से देख लीजिए अगर उससे सटा जमीन उपलब्ध है तो 50 डिसमिल जमीन संशोधित करके दीजिए फिर पंचायत सरकार भवन निर्माण कार्य कराया जा सकेगा।

 

 

 

मामले में हम ने सीओ को पत्र प्रेषित कर दिशा निर्देश दिया है। वहीं दूसरी ओर मधुबन के मुखिया पूजा कुमारी ने कहा कि पंचायत सरकार भवन मुख्यमंत्री का ड्रीम प्रोजेक्ट योजनाओं में से एक महत्वपूर्ण योजना है। जिसका मुख्य उद्देश्य पंचायत में एक ही छत के नीचे सारे कार्यों का निष्पादन कर गांव के लोगों को प्रखंड कार्यालय के चक्कर से दूर करना है। पिछले कई वर्षों से जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण जमीन के अभाव में पंचायत सरकार भवन का निर्माण मधुबन पंचायत में नहीं हो पाया है।

 

 

 

 

काफी मशक्कत के बाद ग्राम पंचायत द्वारा बिहार सरकार की जमीन खोज कर पंचायत सरकार भवन की स्वीकृति के लिए चिन्हित किया गया। इसे अस्वीकृत करना एक साजिश नजर आ रहा है। जबकि इसी प्रखंड क्षेत्र के शहजादपुर, पिपरा करोती, गोपालपुर, नयानगर आदि पंचायतों में जलाशय को भरकर पंचायत सरकार भवन निर्माण कार्य किया गया है। वहीं मधुबन पंचायत में साज़िश के तहत निर्माण कार्य को बाधित कराया जा रहा है। जबकि जनहित में पंचायत सरकार भवन निर्माण कार्य निहायत जरूरी है। मुखिया ने कहा कि मामले में मैं चुप नहीं बैठूंगी।

 

 

 

पंचायतराज मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक का दरवाजा खटखटाऊंगी। जब तक पंचायत सरकार भवन निर्माण कार्य की स्वीकृति नहीं मिल जाती है तब तक यह जनहित में लड़ाई लड़ी जाएगी।

भ्रष्टाचार में उलझ कर रह गया स्वच्छता अभियान

भ्रष्टाचार में उलझ कर रह गया स्वच्छता अभियान

भ्रष्टाचार देखना हो तो : मोहनपुर प्रखंड में स्वच्छ भारत मिशन के तहत बनाए गए शौचालय की कराया जांच

कई गांव में बना शौचालय निर्माण के बाद से ही जर्जर

 

खबरों की तह तक

मोहनपुर। केंद्र एवं प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजना स्वस्थ भारत मिशन के तहत घर घर में शौचालय निर्माण की योजना मोहनपुर में पूरी तरह से भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई है खास बात तो यह है कि योजना में समुचित जांच कराए बगैर कागजों में ही ओडीएफ घोषित कर दिया गया है।

 

 

 

जिला और प्रखंड प्रशासन ने ग्रामीण क्षेत्र में सौ फीसदी शौचालय बनाकर वाह वाही लूट ली लेकिन जब गांव में जाकर ग्राउंड रियलिटी की पड़ताल की गई तो पता चला कि कई जगहों पर शौचालय अधूरा या फिर कराने के बाद से बेकार पड़ा हुआ है। कई जगहों पर तो कचरा और घास फूस भर दिया गया है। कहीं दरवाजे तो कहीं छत नहीं है लेकिन विभाग द्वारा उन्हें कागजों पर पूरा दिखाकर रुपए की निकासी बंदरबांट जरूर कर ली गई है। यही नहीं बल्कि मोहनपुर प्रखंड में स्वस्थ भारत मिशन और मनरेगा जैसी योजनाओं को अधिकारी और जिम्मेदार कर्मियों की मिलीभगत से रसातल में भेजा जा रहा है। जिनको हकीकत भी आने वाले दिनों में आप सभी को दिखाई जाएगी।

 

बिचौलियों के माध्यम से कई गांव में बना शौचालय

 

 

जानकारों की मानें तो शौचालय निर्माण को बुनियाद ही भ्रष्टाचार पर रखी गई शौचालय निर्माण में बारह हजार का प्रचलन राशि की ओर से निर्धारित किया गया था । लेकिन कई गांव में इस कार्य को कराने के लिए स्वस्थ भारत मिशन के कर्मियों के द्वारा गांव के बिचौलियों को ठेके पर दे दिया गया। जिनका नतीजा यह हुआ कि जैसे तैसे शौचालय का कार्य पूर्ण दिखाकर पैसे को हजम कर लिया गया।

परिवार नियोजन अंतर्गत सम्मान समारोह का आयोजन

परिवार नियोजन अंतर्गत सम्मान समारोह का आयोजन

खबरों की तह तक

  गुमला। डुमरी (गुमला)। प्रखंड अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र डुमरी में परिवार नियोजन कार्यक्रम अंतर्गत सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में प्रखंड प्रमुख जीवंती एक्का शामिल हुईं।

 

 

कार्यक्रम में डुमरी प्रखंड की परिचारिकाओं, सहियाओं एवं बेहतर कार्य करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों को प्रशस्ति पत्र व उपहार देकर सम्मानित किया गया। उपस्थित कर्मियों को संबोधित करते हुए डॉ. रोशन खलखो ने कहा की आपके द्वारा बेहतर कार्य किया गया है जो पूरे स्वास्थ्य केंद्र हेतु सम्मान की बात है। आपसे इसी तरह बेहतर कार्य की सदैव अपेक्षा है।

 

 

अपनी जिम्मेदारी को ईमानदारी पूर्वक निभाना हम सभी स्वास्थ्य कर्मियों का दायित्व है। वहीं ये भी कहा की अभियान निदेशक झारखंड के निर्देशानुसार सभी एनएम, सहिया एवं वैसे स्वास्थ्य कर्मी जिन्होंने परिवार नियोजन से संबंधित बेहतरीन काम किया है उनको सम्मानित किया जाना था।

 

 

 

जिनके आलोक में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। मौके पर एकाउंट मैनेजर इंदु कुमारी, प्रोग्राम मैनेजर राजेश केरकेट्टा, बीटीटी मंजुला लकड़ा, शांता टोप्पो, प्रधान लिपिक पूर्ति मिंज, प्रीति कुमारी सहित अन्य उपस्थित थे।

दिव्यांग की जमीन पर पूल निर्माण का मामला पकड़ रहा है तूल

दिव्यांग की जमीन पर पूल निर्माण का मामला पकड़ रहा है तूल

 

जांच कर कार्रवाई की जाएगी,पीड़ित के साथ होगा न्याय- उप विकास आयुक्त

वीडियो और सीओ को दिया आवेदन

खबरों की तह तक

देवघर।सारठ प्रखंड अंतर्गत बरमसिया घाट में बन रहे पूल का विरोध दर्ज करवाते हुए जमीन मालिक दिव्यांग व्यक्ति ने देवघर उपायूक्त और विभाग के अधिकारियों को आवेदन देकर निर्माण पर रोक लगानें की मांग की है।आवेदन के माध्यम से पीड़ित ने बताया है कि दोरहिया मोजा अंतर्गत जमाबंदी नंबर 1 प्लाट नंम्बर 5 जो पीड़ित के दादा स्व केदार नाथ के नाम से अंकित हैं और उनके देहांत के बाद उनके पुत्र और मेरे पिताजी के नाम पर है जिसपर हम पुत्रों का अधिकार है।

 

 

 

वहीं पीड़ित ने कहा कि संवेदक या विभाग के किसी अभियंता ने इस सम्बंध में हम सबों से कोई सामंजस्य नहीं बनाया और जबरन कार्य का आदेश देते हुए काम की शुरुआत करवा दिया गया।

 

 

जबकि विभाग के दोनों अभियंताओं सहित संवेदक से भी संपर्क किया गया पर उनके तरफ़ से कोई सकारात्मक पहल नहीं दिखी।वहीं पीड़ित नें जिला के वरीय अधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई है।और इस इसको लेकर सारठ प्रखंड विकास पदाधिकारी और अंचलाधिकारी को भी आवेदन देकर अविलंब कार्य रुकवाने का आग्रह किया है।

वहीं इस सबंध में जिला के उपविकास आयुक्त डॉ तारा चंद ने मामले पर संज्ञान लेते हुए दिव्यांग को न्याय दिलाने की बात कही है।

अंचलाधिकारी-वहीं इस सम्बंध में प्रखण्ड के अंचलाधिकारी ममता मरांडी ने कहा कि मामला मेरे संज्ञान में आया है आवेदन दीजिए जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

 

 

बताते चलें कि प्रखण्ड अंतर्गत बरमसिया गांव स्थित नदी घाट पर ग्रामीण विकास विशेष प्रमंडल देवघर द्वरा 3.20 करोड़ रुपए की लागत से पूल निर्माण की स्वीकृति दी है और जमीन के मालिक से बिना कोई सहमति बनाये कार्य को दबंगता के साथ शुरू भी करवा दिया गया है। जिसको रोक लगाने के लिए पीड़ित दिव्यांग जिला के सभी अधिकारियों से गुहार लगा रहे हैं।

शिवरात्रि महोत्सव में सभी के पूर्ण सहयोग के लिए धन्यवादः उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री

शिवरात्रि महोत्सव में सभी के पूर्ण सहयोग के लिए धन्यवादः उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री

 

खबरों की तह तक

देवघर। उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री ने महाशिवरात्रि, 2023 के अवसर पर शिवरात्रि मेला के सफल संचालन में सहयोग हेतु सभी का धन्यवाद व आभार प्रकट किया है।

 

 

साथ ही उपायुक्त ने जनप्रतिनिधियों, प्रशासन के सभी वरीय अधिकारियों, पुलिस पदाधिकारियों, पुरोहित समाज, पण्डा धर्मरक्षिणी के सभी सम्मानित सदस्य, एनडीआरएफ (NDRF) की टीम, रैफ (RAF) के जवान, स्वयं सेवी संस्था, स्वयंसेवक, व मंदिर कर्मियों के साथ-साथ सभी पुलिस बल के जवान एवं सहयोगी कर्मियों को धन्यवाद देते हुए कहा कि पिछले कई दिनों से जिस प्रकार आप सभी ने पूरे तत्परता एवं मेहनत के साथ कार्य किया है वह वाकई सराहनीय व प्रशंशनीय है।

आगे श्री भजंत्री ने कहा कि सभी के सहयोग के वजह से हीं यहां आगन्तुक देवतुल्य श्रद्धालओं के सुलभ जलार्पण की व्यवस्था के साथ-साथ सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम ससमय किया जा सका।टीम वर्क का एक बेहतर उदाहरण पेश करते हुए जिस प्रकार आप सभी ने पूरेे तत्परता व कर्तव्य निष्ठा के साथ शिवरात्रि महोत्सव के सफल संचालन हेतु अपने दायित्वों का निर्वहन किया है, वह सराहनीय है।

 

इसके अलावे उपायुक्त  मंजूनाथ भजंत्री ने कहा कि इस प्रकार के भव्य आयोजन में सभी का सहयोग आपेक्षित होता है, चाहें प्रशासनिक अधिकारी, कर्मी श्रद्धालु या आम नागरिक हीं क्यों न हो।

 

 

सभी के सहयोग से इतने बड़े तादाद में यहां आये श्रद्धालुओं का सुगम जलार्पण कराते हुए उन्हें हर संभव सुविधा उपलब्ध करायी जा सकी, ताकि श्रद्धालु के साथ देवों की नगरी देवघर आए हुए आगंतुक यहां से एक सुखद अनुभूति लेकर अपने गंतव्य की ओर रवाना हो सके।

मंटु बर्मा का रेलवे में सीनियर कमर्शियल कम टिकट क्लर्क (टीटीई) पद पर हुआ चयन

मंटु बर्मा का रेलवे में सीनियर कमर्शियल कम टिकट क्लर्क (टीटीई) पद पर हुआ चयन

खबरों की तह तक

गिरिडीह। जिले के देवरी प्रखंड ग्राम बीघा के रहने वाले द्वारिका महतो के पुत्र मंटु कुमार बर्मा का चयन रेलवे भर्ती बोर्ड के द्वारा आयोजित एनटीपीसी परीक्षा के लेवल-05 में सीनियर कमर्शियल कम टिकट क्लर्क के पद पर हुआ है। मंटु बर्मा को करीब से जानने वाले विकास कृष्ण मंडल बताते हैं कि वह पढ़ने में अन्य बच्चों से हमेशा अलग रहे हैं व प्रतिभा के धनी हैं। मंटु बर्मा अपनी पढ़ाई के साथ साथ अपने क्षेत्र के कई गांव के हजारों बच्चों को प्रयास पहल संस्था के तहत निःशुल्क शिक्षा उपलब्ध करा रहे हैं।

 

 

इनके चयन की खबर आते ही बीघा ग्रामवासियों के साथ साथ प्रयास के सभी बच्चों एवम् सदस्यों में अलग उत्साह देखा जा रहा है। मंटु बताते हैं कि मेरे चयन के पीछे सभी शिक्षकों, परिवार के सभी सदस्यों, दोस्तों एवं प्रयास पहल के सभी बच्चों की दुआ भी शामिल है।

 

आने वाले समय में समाज के लाखों बच्चों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ना मेरा लक्ष्य है। कुछ दिन पहले मंटु बर्मा के भाई सुबोध कुशवाहा का चयन भी भारत सरकार के ईक्साइज इंसपेक्टर पद पर हो चुका है। प्रयास पहल के सक्रिय सदस्य सुमन बर्मा बताते हैं कि इन दोनों भाइयों की मेहनत, लगन और समाज के प्रति सकारात्मक सोच हम जैसे लाखों युवाओं को प्रेरित करती है। दोनों भाइयों ने गिरिडीह जिले का नाम रौशन किया है, साथ ही अपने आस–पास के कई बच्चों के आदर्श बन गए हैं। मंटु बर्मा के भारतीय रेलवे में चयन होने पर राजेन्द्र कुशवाहा, मितेंद्र कुमार, श्रीकांत बर्मा, आदित्य वर्मा, देवनंदन बर्मा तथा प्रयास के सभी शिक्षकों व सदस्यों ने शुभकामनाएं दी है।

कहानी सुनाओ प्रतियोगिता के जूनियर में भारती विद्यापीठ एवं सीनियर में दून पब्लिक स्कूल अव्वल

कहानी सुनाओ प्रतियोगिता के जूनियर में भारती विद्यापीठ एवं सीनियर में दून पब्लिक स्कूल अव्वल

 

खबरों की तह तक

देवघर। स्थानीय बी.एड. कॉलेज परिसर में 20वाँ देवघर पुस्तक मेला के बैनर तले एकल नाटक के माध्यम कहानी सुनाओ प्रतियोगिता का आयोजन अमृत मंच पर शांतिपूर्वक सम्पन्न हुआ जिसमें शहर के विभिन्न विद्यालयों के विद्यार्थियों ने अपनी अपनी भागीदारी निभाई। वर्ग षष्ठ से अष्टम तक के विद्यार्थियों को ग्रुप ए में जबकि वर्ग नवम से द्वादश तक के विद्यार्थियों को ग्रुप बी में रखा गया था।

 

आज की प्रतियोगिता में में निर्णायक मंडली में ब्लू
बेल्स स्कूल की प्राचार्या पूनम झा, मैत्रेया स्कूल की प्राचार्या विनीता मिश्रा एवं शिक्षाविद सुनीता सिंह उपस्थित थे। निर्णायक मंडली द्वारा प्रदत्त प्राप्तांक के अनुसार ग्रुप ए भारती विद्यापीठ के अनिकेत कुमार सिंह को प्रथम, देवघर संत फ्रांसिस स्कूल की पवित्रा राय को द्वितीय, भारती विद्यापीठ के आदित्य पाण्डेय को तृतीय, इसी विद्यालय की साक्षी कुमारी, दून पब्लिक स्कूल की सूफी प्रवीण

 

एवं रागिणी कुमारी को सांत्वना पुरस्कार ; ग्रुप बी में

 

दून पब्लिक स्कूल के राहुल कुमार पाण्डेय, रेहान, खुशी सिंह, साधना कुशवाहा, हसरत जहाँ को क्रमशः प्रथम, द्वितीय, तृतीय, चतुर्थ, पंचम जबकि माउंट लिटेरा जी स्कूल के रुद्राक्ष ठाकुर को षष्ठ पुरस्कार मुख्य अतिथि सतसंग आश्रम के सह प्रति ऋत्विक सुबास चन्द्र प्रधान, जाने माने सांस्कृतिक कर्मी व देवघर पुस्तक मेला के पदाधिकारी आर. सी. सिन्हा, सभी निर्णायकगण, व अन्य अतिथियों के करकमलों से प्रदान किया गया। कार्यक्रम में मंच संचालन की भूमिका जाने माने उद्घोषक प्रभाकर ने निभाई। प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार सतसंग आश्रम जबकि सांत्वना पुरस्कार गुरुकुल कोचिंग सेंटर तथा डेंटल अर्थ के सौजन्य से प्रदान किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में मेला प्रभारी आलोक मल्लिक व अन्य ने अहम भूमिका निभाई।

 

प्रतियोगिता का आयोजन अमृत मंच पर शांतिपूर्वक सम्पन्न हुआ जिसमें शहर के विभिन्न विद्यालयों के विद्यार्थियों ने अपनी अपनी भागीदारी निभाई। वर्ग षष्ठ से अष्टम तक के विद्यार्थियों को ग्रुप ए में जबकि वर्ग नवम से द्वादश तक के विद्यार्थियों को ग्रुप बी में रखा गया था। आज की प्रतियोगिता में में निर्णायक मंडली में स्ववनामधन्य कोरियोग्राफर आकांक्षा, नृत्य शिक्षिका ममता मिश्रा एवं फिल्म निदेशक वीरेंद्र मोहन उपस्थित थे। निर्णायक मंडली द्वारा प्रदत्त प्राप्तांक के अनुसार ग्रुप ए में गीता देवी डीएवी पब्लिक स्कूल की सृष्टि सिन्हा, सौम्या भारद्वाज एवं अनन्या एंजेल को क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय जबकि इसी विद्यालय की खुशी बनर्जी एवं नेशनल पब्लिक स्कूल की वैष्णवी शर्मा को सांत्वना पुरस्कार ; ग्रुप बी में देशबंधु विद्यालय, चित्तरंजन, पश्चिम बंगाल की डोना भट्टचार्य को प्रथम, सनराइज द्वारिका एकेडमी की सोनम श्री को द्वितीय, एस. के.पी. विद्या विहार की श्रेया सुमन को तृतीय जबकि भारती विद्यापीठ की श्रुति कुमारी व देवसंघ नेशनल स्कूल की शांभवी सागर को सांत्वना पुरस्कार मुख्य अतिथि सतसंग आश्रम के सह प्रति ऋत्विक डॉ तपन कुमार विश्वास, सभी निर्णायक गण, गुरुकुल कोचिंग सेंटर की निदेशिका डॉ. एकता रानी, डेंटल अर्थ की निदेशिका डॉ. चेतना भारती, समाजसेवी रूपा केशरी व अन्य अतिथियों के करकमलों से प्रदान किया गया। कार्यक्रम में मंच संचालन की भूमिका जाने माने उद्घोषक प्रभाकर व रौशन मिश्रा ने निभाई। प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार सतसंग आश्रम जबकि सांत्वना पुरस्कार गुरुकुल कोचिंग सेंटर तथा डेंटल अर्थ के सौजन्य से प्रदान किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में मेला प्रभारी आलोक मल्लिक व अन्य ने अहम भूमिका निभाई।

सनातन फाउंडेशन के निशुल्क पुस्तक वितरण स्टॉल में लगातार उमड़ रही छात्र-छात्राओं की भीड़

सनातन फाउंडेशन के निशुल्क पुस्तक वितरण स्टॉल में लगातार उमड़ रही छात्र-छात्राओं की भीड़

 

खबरों की तह तक

देवघर। पुस्तक मेला 2022 आज 9वां दिन सनातन फाउंडेशन के सौजन्य से संचालित निशुल्क पुस्तक वितरण स्टॉल पर छात्र-छात्राओं सहित अन्य सभी पुस्तक प्रेमियों की तादाद भी बढ़ती जा रही है। पुस्तक मेला में पहुंच रहे पुस्तक प्रेमी, छात्र छात्राएं इसका लाभ उठा रहे हैं। इस स्टॉल की एक खासियत यह भी है कि यहां सभी प्रकार के अच्छी अच्छी पुस्तकों का संग्रह उपलब्ध है जो आसान से सवाल के जवाब पर बिना किसी शुल्क के पाठकों को वितरित किया जा रहा है।

 

 

सनातन फौंडेशन के चेयरमैन ने बताया कि 12 जनवरी से अब तक 5000 से अधिक पुस्तकों का वितरण निशुल्क पाठकों के बीच किया जा चुका है। पुस्तक मेला के बीते 8 दिनों में कई जाने-माने प्रसिद्ध शिक्षाविद चिकित्सकों, विभिन्न विद्यालय के निदेशक एवं प्राचार्य एवं शिक्षको ने स्टॉल में सजाए पुस्तकों का अवलोकन कर सनातन फौंडेशन के कार्यों की भूरी भूरी सराहना की है

 

 

स्टॉल पर सनातन फाउंडेशन के सचिव सुप्रीति सिंह सक्रिय सदस्य संजीव कुमार झा, अभिजीत सिंह, मनीषा सिंह, मुन्ना राउत, आशीष कुमार झा, अमरदीप, अर्जुन सिंह, यूगल राज, सन्नी, कंचन एवं अरनव सिंह का महत्वपूर्ण योगदान है।

समय से पहले विद्यालय से शिक्षक नदारत,क्या इसी तरह पढ़ेगा भारत तो बढेगा भारत

समय से पहले विद्यालय से शिक्षक नदारत,क्या इसी तरह पढ़ेगा भारत तो बढेगा भारत

 

 

खबरों की तह तक

बरवाडीह/लातेहार। बरवाडीह प्रखंड के चुंगरु पंचायत के ग्राम कोरवामड़ई के उक्रमित प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों की लापरवाही के कारण इस स्कूल के छात्र–छात्राओं का भविष्य अंधकार में जा रहा है। इस स्कूल में दो शिक्षक है, फिर भी स्कूल के बच्चे अपने मानो मुताबिक स्कूल में पढ़ाई के जगह मस्ती करते दिखे।

 

वहीं मंगवार को 12 बजे स्कूल में दोनो शिक्षक में से एक भी शिक्षक मौजूद नहीं थे।जिसके कारण स्कूल के बच्चे स्कूल के बाउंड्री और छत पर खेलते–कूदते नजर आ रहे थे। वहीं स्कूली बच्चों से जब पूछा की शिक्षक कहां गए है, तो स्कूली बच्चों ने बताया कि हमलोगों को नहीं पता है की दोनो गुरु जी कहां गए है। यहीं नहीं स्कूली बच्चों को तो अपना गुरु जी का नाम तक भी पता नहीं था। वहीं रसोइया रीता देवी ने बताया कि मेरा ऑपरेशन हुआ है इसलिए हम एक माह का छूटी में है मेरे जगह पर एक लड़की खाना बना रही।

 

 

उन्होंने बताई की राम प्रसाद गुरु जी का हमेशा से यही हाल रहा है वो हमेशा 12 बजे कभी 1 बजे स्कूल से चले जाते है। रसोइया रीता देवी ने बताई की हम वर्षो से यहां रसोइया का काम कर रहे है पर आज तक यहां अच्छे से पढ़ाई होते नही देखा है। वहीं दूरभाष के माध्यम से स्कूल के प्रधानाध्यापक तेज प्रताप भगत से बात हुई तो उन्होंने बताया कि हम स्कूल गए थे। उसके बाद बच्चो का परीक्षा का प्रश्न पेपर लेने बीआरसी कार्यालय आ गए थे, पर आने से पहले अपने सहयोगी शिक्षक राम प्रसाद सर को स्कूल में रहने और बच्चो को पढ़ाने के लिए बोल कर आया था पर मेरे आने के बाद वो भाग गए तो हम कुछ नहीं बता सकते है, क्योंकि वो मुझे कुछ बोल कर नही गए है।

error: Content is protected !!