news-img

[ad_1]

नई दिल्ली: ज्ञानव्यापी सर्वे का आदेश देने वाले वाराणसी एसीजेएम रवि कुमार दिवाकर को मंगलवार दोपहर को धमकी भरा पत्र मिला। इस मामले के सामने आने के बाद उनकी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। उनकी सुरक्षा के लिए कुल 9 पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया है।

जिला जज की सुरक्षा में अब 10 पुलिस कर्मी तैनात हैं। पुलिस के अनुसार, एसीजेएम रवि कुमार दिवाकर को एक पंजीकृत डाक से धमकी भरा पत्र मिला। इस मामले की जांच डीसीपी वरुण कर रहे हैं। हाल ही जज रवि कुमार दिवाकर ने टिप्पणी कर कहा था कि अब मुझे भी अपने परिवार की चिंता होती है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस्लामिक आगाज मूवमेंट, नई दिल्ली के नाम से जज रवि कुमार दिवाकर को लैटर मिला। जिसमें लिखा था कि ‘अब न्यायाधीश भी भगवा रंग में सराबोर हो चुके हैं। फैसला उग्रवादी हिंदुओं और उनके तमाम संगठनों को प्रसन्न करने के लिए सुनाते हैं।

इसके बाद ठीकरा विभाजित भारत के मुसलमानों पर फोड़ते हैं। आप न्यायिक कार्य कर रहे हैं, आपको सरकारी मशीनरी का संरक्षण प्राप्त है। फिर आपकी पत्नी और माताश्री को डर कैसा है…?

आपने वक्तव्य दिया था कि ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का निरीक्षण एक सामान्य प्रक्रिया है। आप मस्जिद को मंदिर घोषित कर देंगे। कोई भी काफिर मूर्तिपूजक हिंदू न्यायाधीश से मुसलमान सही फैसले की उम्मीद नहीं कर सकता।

 

[ad_2]